17 वीं सदी में हिन्दू-मुस्लिम धार्मिक जीवन

डॉ0 प्रियंका तिवारी

Abstract


हिन्दू धर्म भारतवर्ष का प्राचीनम धर्म रहा है। जैन, बौद्ध और सिक्ख भी इसमें शामिल किये जा सकते हैं। इस धर्म के लोग ईश्वर को सर्वव्यापी और सर्वशक्तिमान मानते हैं। भारत में जब इस्लाम धर्म शासकों का आगमन हुआ उस समय हिन्दू धर्म यहाँ का प्रमुख धर्म था लेकिन अधिकांश मुस्लिम शासकों का हिन्दू धर्म के प्रति व्यवहार सहयोगपूर्ण नहीं रहा। उसके बाद भी हिन्दू धर्म का उन्मूलन नहीं हुआ। मुगल काल में भी हिन्दू धर्म फलता-फूलता रहा और उसके अनुयायी अपने धर्म का पालन करते रहे।
अकबर के समय से हिन्दुओं को अपना धर्म मनाने की खुलकर छूट मिल गयी। अकबर से पहले के सभी मुसलमान शासक हिन्दुओं से तीर्थयात्रा कर1 और जजिया कर लिया करते थे। अकबर ने इन दोनों करों को समाप्त कर दिया। जजिया एवं तीर्थयात्रा कर दोनों समाप्त हो जाने से हिन्दुओं की धार्मिक भावना को अत्यन्त सम्मान प्राप्त हुआ।2


Full Text:

PDF

References


वी0ए0 स्म्थि, अकबर दि ग्रेट (अनु0 राजेन्द्रनाथ नागर), पृ0 70.

के0एम0 पणिक्कर, ए सर्वे ऑफ इण्डियन हिस्ट्री, पृ0 157.

आशीर्वादी लाल, अकबर दि ग्रेट, भाग 3, पृ0 100.

वही,

अबुल फजल, आइन-ए-अकबरी, प्प्प् (अनु0 गैरेट), पृ0 312.

ई0एम0 फॉस्टर, अर्ली ट्रेवेल इन इण्डिया, पृ0 19.

वही, पृ0 39.

आशीर्वादी लाल, अकबर दि ग्रेट, भाग 3, पृ0 101.

के0एम0 अशरफ, लाइफ एण्ड कण्डीशन ऑफ पीपुल ऑफ हिन्दुस्तान, पृ0 527.

आशीर्वादी लाल, अकबर दि ग्रेट, पृ0 60.

के0एम0 अशरफ, लाइफ एण्ड कण्डीशन ऑफ पीपुल ऑफ हिन्दुस्तान, पृ0 264;जर्नल ऑफ दि डिपार्टमेण्ट ऑफ लेटर्स, कलकत्ता यूनिवर्सिटी (1921).

के0एम0 अशरफ, लाइफ एण्ड कण्डीशन ऑफ पीपुल ऑफ हिन्दुस्तान, पृ0 273.

ई0एम0 फॉस्टर, अर्ली ट्रेवेल इन इण्डिया, पृ0 19.

मनूची, वही (प्प्प्),पृ021.

कल्याण, हिन्दू संस्कृति अंक, पृ0 780.

कवि सूदन, सुजानचरित, प्रथम अंक, छन्द 11

बर्नियर, ट्रेवेल्स इन दि मुगल एम्पायर, पृ0 283.

वही, पृ0 528.

वीरमाण के अनुसार राजा अभय सिंह ने अपने उमरावों आदि के साथ द्वारिकापुरी के मन्दि में आरती के पश्चात् प्रणाम और परिक्रमा कर प्रसाद और चरणामृत ग्रहण किया था। वीरमाण राजरूपक, तीसवां प्रकाश, छन्द 18-37.

यह स्थल गढ़वाल जिले में एक उच्च पर्वत शिखर पर स्थित विष्णु से सम्बन्धित है तथा बद्रीनाथ के नाम से विख्यात है। इण्डियन गजेटियर, भाग 1, पृ0 410.

सुजन राय भण्डारी, खुला-सात-उत्-तवारीख, (अनु0), पृ0 23.

केशव मन्दिर जाटों के षडयन्त्र का केन्द्र था इसलिए इसे गिरा दिया गया। मनूची, भाग प्प्प्, पृ0 116.

वीरमाण राजरूपक 30वाँ प्रकाशन, छन्द 17, 18, 37.

वही, पृ0 485-93.

सुजन राय भण्डारी, खुलासान-उल-तवारीख, (अनु0), पृ0 23.

वृन्दावनदास, ब्रज प्रेमानन्द सागर, 16वीं लहर, छन्द 46-47.

कृपानिवास पदावली, पृ0 3.

अबुल फजल, आईन-ए-अकबरी, प्प्प्, (अनु0 बेवरीज), पृ0 370.

राहुल सांकृत्यायन, अकबर, पृ0 160.

वी0ए0 स्मिथ, अकबर दि ग्रेट (हिन्दी अनु0 राजेन्द्रनाथ नागर), पृ0 479.

बर्नियर, ट्रेवेल्स इन दि मुगल एम्पायर, पृ0 485-488.


Refbacks

  • There are currently no refbacks.